Live Streaming
Mumukshu CALL US TODAY

+91 81468 61402

Mumukshu MAIL US TODAY

info@mumukshu.org

Vidhwan

Gyanies Gallery

मनुभाई कामदार, वडोदरा
जन्म तिथि श्रावण वदी अमावस १९-८-१९२५- अवसान २२-७-२००३ १९९८ से २००३ तक असाता वश बीमारी रही माता-पिता का नाम दया कुंवर- पानाचंद्र १६ वर्ष की उम्र में पिताजी का देहावसान हो गया | शिक्षा BCom परिवार पत्नी – नवमालिका बेन – पिता लाभुभाई मेहता राजकोट ७-८ वर्ष की उम्र में सन १९४१ में गुरुदेव को परिवर्तन के बाद देखा था गुरुदेव | संतान – दीपक, हिमांशु एवं पुत्री - फाल्गुनी | व्यवसाय बोम्बे में सेल्स टेक्स इंस्पेक्टर थे | पढाने में चतुर शिक्षक थे अतः प्रवचन करने में सफल रहे | कोमर्स कोचिंग, गुरुदेवश्री का परिचय सास-ससुर कमलाबाई लाभुभाई से रूचि लगी १४ वर्ष की उम्र में आबू में एक संत मिला जिसने कहा था कि तुम पूर्व जन्म के संस्कारी जीव हो | यह मनुष्य भव उस संस्कार को सार्थक करने को मिला है | उस समय तो कुछ समझ में नहीं आया परन्तु २९ वर्ष की उम्र में १९५४ में सोनगढ़ में गुरुदेव श्री का प्रवचनसार गाथा ९९ का प्रवचन सुना और रस लग गया | गुरुदेव वड़ोदरा ४ वार पधारे थे | २६ वर्ष सोनगढ़ रहे | रचनात्मक कार्य वडोदरा पंचकल्याणक समय गुरुदेव ने पूछा की यहाँ कितने तत्व रूचि वाले जीव हैं ? बोले कोई नहीं परन्तु अब आपके प्रताप से हो जायेंगे | गुरुदेव – तत्व रूचि बिना मंदिर का निभाव न हो सकेगा | प्रतिदिन अपनी पुत्री को राजकोट पात्र लिखते जिसमे मात्र तत्व चर्चा होती थी | गुरुदेव को इनका भरोसा था | कहीं जाना हो तो कहते मनुभाई कहेंगे तो चलेंगे | आबू जाने एवं वडोदरा आने कार्यकरम-व्यवस्था आपने ही बनाया था | मंदिर में ३ वर्ष प्रवचन किये | फिर १९८४ से घर पर ही हे कक्षा २० वर्ष ली | १७०० केसेट भरी गयी | प्रेरक प्रसंग कोमर्स कोचिंग चलाते थे एक दिन आत्मा की धुन में थे बोर्ड पर चिदानंद रूपं शिवोहं – शिवोहं लिखने लगे छात्रों ने कहा सर आप क्या पढ़ाना चाहते हैं ? उसी समय कह दिया आज से कोचिंग बंद | इनके श्रोता हरीश भाई इनकी पत्नी १९८२ में सोनगढ़ गये तब किसी ने पूछा आप मनुभाई कामदार का प्रवचन सुनते हो ? वस घर आते ही सायं सबसे पहले ७-३० बजे मनुभाई कामदार के घर पहुँच गये और प्रथम प्रवचन सुना एवं हमेशा के लिए जुड़ गये | आठम चौदस हरी नहीं खाते हैं,स्वाध्याय हेतु निवृत्ति ले ली हैं | इन्ही ने १९९४ में मंदिर में गुरुदेव श्री की सी डी चालू कराई थी |